मंगलवार, 3 दिसंबर 2013

चुप्पियाँ

वो उदासियों के
तमाम रास्ते तय कर
खुशियों की दहलीज़ पर
चुप्पियाँ लिए बैठा था
इस बात से अनभिज्ञ
कि खिलखिलाहटों की कुंजियाँ
उसके शब्द थे ....................

3 टिप्‍पणियां:

कुछ चित्र ये भी